KYC Kya hai ? Full knowledge 2022

0
6246

KYC क्या है? Full knowledg.

नमस्कार दोस्तों क्या आप भी KYC से परेशान हैं और यह जानना चाहते हैं कि KYC की आवश्यकता क्यों पड़ती है और इसके क्या क्या फायदे होते हैं, E-KYC क्या है,E-KYC कैसे काम करता है तो इन सभी जानकारियों को आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आप तक पहुंचाने वाले हैं। इसीलिए इस आर्टिकल में यदि आप अंत तक बने रहेंगे तो आप इन सारी जानकारियों से अवगत हो जाएंगे। तो चलिए जानते हैं केवाईसी के बारे में।

KYC क्या है ?

दोस्तों आपने अनेक कार्यों में KYC का प्रयोग देखा होगा पर आपको यह नहीं पता होता है कि KYC किसे कहते हैं और यह क्यों आवश्यक होता है तो दोस्तों सबसे पहले आपको मैं इसकी फुल फॉर्म बताना चाहूंगा तो इसकी फुल फॉर्म होती है। “Know Your Customer “यदि इसका हिंदी में मतलब जानें तो इसका मतलब होता है “अपने ग्राहक को जानें”

इसका मतलब यह है कि किसी भी बैंक अथवा वित्तीय संस्था के माध्यम से अपने ग्राहक की पहचान स्थापित करने के लिए विवरण एकत्रित करना है। दोस्तों भारतीय रिजर्व बैंक ने केवाईसी को लांच किया था जिससे वित्तीय धोखाधड़ी, मनी लॉन्ड्रिंग, अवैध ट्रांजैक्शन, पहचान चुराना आदि न हों।

भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंक खाता खोलते समय सभी बैंकों को केवाईसी करने के लिए कहा है। यह ग्राहकों को धोखेबाजी से बचाता है क्योंकि कुछ व्यक्ति अपने पते नाम और नकली हस्ताक्षर की सहायता से लोगों के खाते से पैसे निकाल लेते हैं इसलिए बैंक जैसी अन्य वित्तीय संस्थानों में ग्राहकों को केवाईसी करवाना बेहद आवश्यक हो गया है। जिससे उनकी प्रमाणिकता का अच्छी तरह से पता चल जाता है और बैंक के द्वारा अपने कस्टमर को बेहतर तरीके से सेवाएं दी जाती हैं।

KYC करने लिए क्या-क्या ग्राहक से डिटेल मांगी जाती हैं ?

दोस्तों जब बैंक के लोग KYC करते हैं तब वह आपसे आपका नाम मेरा कहने का मतलब है कि ग्राहक का नाम, उसके पिता का नाम, उसकी माता का नाम, उसकी जन्मतिथि, वैवाहिक स्थिति, पैन कार्ड, प्रमाण पत्र एवं फंड आदि के बारे में जानकारी मांगता है और सबसे महत्वपूर्ण चीज वह आपसे केवाईसी करने के लिए सभी जरूरी दस्तावेजों में लाइसेंस, पासपोर्ट, पहचान पत्र, नरेगा कार्ड, पैन कार्ड आदि मांगता है। इन कागजातों में से किसी ग्राहक को एक या दो डॉक्यूमेंट जमा कराने बेहद जरूरी होते हैं।

KYC के लाभ –

दोस्तों आपको केवाईसी कराने के अनेकों लाभ होंगे जैसे कि आप धोखाधड़ी जैसी गतिविधियों से बच जाएंगे और आईडेंटिटी चुराने से भी आप बच जाएंगे।
यह केवाईसी बिजनेस के लिए भी बहुत जरूरी होती है।
KYC बिजनेस और किसी बैंक को अपने ग्राहकों के साथ बेहतर संबंध बनाने में बहुत मददगार होती है जिससे एक बहुत अच्छी कुशल सेवा आपको दी जा सकती हैं।
ग्राहकों के लिए केवाईसी कराना बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इससे आपको बैंक से संबंधित अनेक कार्य में अनुमति मिल जाती है वह भी बिना देरी किए हुए।

KYC क्यों आवश्यक है ?

वैसे इतना तो हमने जान लिया ही है कि केवाईसी से हमारे साथ धोखाधड़ी नहीं हो सकती है। अब बात है कि केवाईसी ज्यादा आवश्यक क्यों होती है तो दोस्तों इसका सीधा सा मतलब है यह आपके लिए इसलिए आवश्यक होती है ताकि आप की आइडेंटिटी को बैंक या अन्य वित्तीय संस्थाएं अच्छी तरह से पहचान सकें कि तुम सही व्यक्ति हैं या नहीं

अर्थात आप कोई दूसरे व्यक्ति तो नहीं हैं तो इससे आपकी संपूर्ण डिटेल जानकर आपको अच्छी सुविधाएं दी जा सकती हैं और आपके साथ धोखाधड़ी भी इसकी वजह से नहीं हो सकती है। तो इसलिए दोस्तों यह बेहद आवश्यक है। वैसे भी आजकल का जमाना तो आप देख ही रहें हैं लोग नई नई तरकीबें अपनाकर दूसरों के खाते में से पैसे निकाल लेते हैं तो इसीलिए भी केवाईसी कराना अनिवार्य हो गया है। अतः आप केवाईसी अवश्य कराएं, इससे आपको भी बैंक द्वारा मिलने वाले अनेक सुविधाएं, लाभ दिए जाएंगे।

दोस्तों यदि केवाईसी का वास्तविक मतलब पूछा जाए तो उसका मतलब होता है ग्राहक की वास्तविकता को पहचानना। इसके अतिरिक्त जो केवाईसी करने का मुख्य उद्देश्य यह भी है बिना खाते मेरा कहने का मतलब है मनी लॉन्ड्रिंग एवं ब्लैक मनी को रोकना । केवाईसी से बैंक को आपके बारे में संपूर्ण जानकारी होती है और वह आपको सभी धोखाधड़ी से बचाती हैं। यदि अपना खाता सुरक्षित है पाना तो केवाईसी अवश्य करवाना।

E-KYC क्या है ?

दोस्तों मेरे ख्याल से आपने इसके बारे में भी सुन रखा होगा और आपको मालूम नहीं होगा कि यह क्या होता है और इससे क्या होता है तो दोस्तों आपको बता दूं कि यह एक ऐसी प्रक्रिया होती है जिसके अनुसार तुम्हारी बैंक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्निक की सहायता से आप के डाक्यूमेंट्स को वेरीफाई करती है।

ई-केवाईसी बैंकों के जरिए नहीं बल्कि किसी ऑनलाइन बिजनेस में ईकेवाईसी की आवश्यकता पड़ सकती है। जिससे कोई फाइनेंसियल वित्तीय संस्था या फिर बैंक अपने ग्राहकों को अच्छी तरह से जान सके कि वह वही सही व्यक्ति है या फिर अन्य कोई। KYC and E-KYC दोनों का मतलब समान ही होता है। बस इसमें फर्क यही होता है कि ईकेवाईसी में ग्राहक की पहचान डिजिटल तरीके से की जाती है।

E-KYC कैसे काम करता है ?

तो सबसे महत्वपूर्ण बात तो यही है कि यह होने के बाद ग्राहक के समय एवं ऊर्जा दोनों की बचत होती है इससे आप क्या समझे तो आपको सीधे समझाऊं तो आपको एक उदाहरण दे रहा हूं। दोस्तों जब हम सिम लेने के लिए स्टोर पर जाते थे तो उसमें अनेक दस्तावेज को वेरीफाई करने के लिए हमें फॉर्म भरना पड़ता है तथा हमें सिम को प्राप्त करने में लगभग 5 साथ दिन का समय लगता था परंतु आज ईकेवाईसी की सहायता से तुरंत हमारे डॉक्यूमेंट वेरीफाई होने के बाद सिम एक्टिवेट हो जाती है।

यदि आप ईकेवाईसी की कार्यप्रणाली को समझना चाहते हैं तो आप UIDAI (UNIQUE IDENTIFICATION AUTHORITY OF INDIA) जो एक आधार स्कीम है तो दोस्तों उसने एक ऐसा सिस्टम बनाकर तैयार कर दिया है जिसकी सहायता से उपयोगकर्ता अपने फिंगरप्रिंट एवं मोबाइल नंबर की सहायता से डॉक्यूमेंट को वाईफाई करना होता है।

अब आप सोच रहे होंगे कि इससे क्या होगा तो दोस्तों आपको बता दूं कि इससे यह पता लगाया जाता है कि यह व्यक्ति सही है या नहीं अर्थात यह वही व्यक्ति है जो यह सर्विस लेना चाहता है या कोई दूसरा। दोस्तों मेरे ख्याल से आपको इतना तो पता ही होगा कि जब हम आधार कार्ड बनवाने जाते हैं या अपडेट करते हैं तो हमसे हमारी सभी उंगलियों के साथ अंगूठे के निशान लिए जाते हैं। अब जो भी तुम ऐसे ही स्थान पर जाते हैं जहां ईकेवाईसी सुविधा उपलब्ध होती है तब वहां आपसे सबसे पहले आपका आधार नंबर मांगा जाता है वहां कंप्यूटर सिस्टम में आधार नंबर डालने के पश्चात वहां पुष्टि की जाती है कि क्या वह सही व्यक्ति है जिसका यह आधार कार्ड है।

अब तुम्हारे आधार कार्ड में जो मोबाइल नंबर दिया है उस पर एक ओटीपी आता है इसके साथ ही आपकी उंगलियों को स्केनर डिवाइस पर लगाया जाता है।आपकी उंगलियां को स्कैन करके आपकी उंगलियों के निशान की पुष्टि की जाती है और जब पुष्टि संपूर्ण हो जाती है तब आप अपने कार्यों को बड़ी आसानी से ऑनलाइन कर सकते हैं।

केवाईसी के लिए सबसे प्रमुख और बेहद आवश्यक दस्तावेज –

पासपोर्ट
आधार कार्ड
नरेगा कार्ड
बॉटर और आईडेंटिटी कार्ड
पैन कार्ड
ड्राइविंग लाइसेंस

तो तुम्हें इन सभी कागजातों की आवश्यकता होती है केवाईसी कराने के लिए।

तो दोस्तों जैसा कि हमने आपको बताया था कि आपको इस जानकारी को पढ़ने के बाद KYC क्या है, KYC के लाभ, KYC क्यों जरूरी है या क्यों आवश्यक है, E-KYC क्या है और कैसे कार्य करती है आदि सवालों के उत्तर मिल चुके हैं। उम्मीद है यह जानकारी आपको पसंद आई होगी।इस जानकारी को जमकर शेयर मारे। धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here